HomeHEALTH EDUCATIONHeart Attack in hindi - 10 तरीके हार्ट अटैक से बचने के

Heart Attack in hindi – 10 तरीके हार्ट अटैक से बचने के

 

heart attack in hindi
heart attack in hindi

हार्ट अटैक से कैसे खुद को बचाये।

Heart Attack in hindi – जैसे की आप सब जानते ही है की हार्ट अटैक एक बहुत ही गंभीर भीमारी है।

जो अधिकांश लोगो की जान ले लेता है। पर इस बीमारी को समझना बहुत ही ज़रूरी है। और ऐसा क्या करे जिससे हमे हार्ट अटैक की कभी समस्या न हो? और आज हम ऐसे 10 तरीको के बारे में बात करेंगे जिससे इस खतरनाक बीमारी से बचा जा सकता है। (Heart Attack in hindi)

wikipedia

हार्ट अटैक क्या होता है –

हमे क्या क्या करना चाहिए जिससे की हार्ट अटैक न हो

इसके लिए पहले आपको समझना पड़ेगा की ये हार्ट अटैक होता क्यों है? जिस तरह से हार्ट पुरे शरीर को को खून की सप्लाई देता है इसी तरह से हार्ट भी अपने लिए 3 ट्यूब लेता है,जिसका नाम है –

1 – LED
2 – RCA
3 – LCX
इनके अंदर चर्बी के लेयर जमते रहते है और धीरे-धीरे हार्ट के ट्यूब को बंद करने लगती है। जब ये चर्बी जमने लगती है तो हो सकता है की हमारी उम्र 15 – 20 साल की हो फिर धीरे-धीरे ये ब्लॉकेज बढ़ती जाए- पर जब तक ये ही ब्लॉकेज 50 से 60 तक पहुंच जाये तो भी किसी भी मरीज कोई कोई तकलीफ नहीं होती है। और हार्ट अटैक के कोई प्रॉब्लम भी नहीं होती है।

और पढ़े – vitamin deficiency 

और पढ़े – Benefits of Giloy 

कब आता है हार्ट अटैक- Heart Attack in hindi

Heart Attack in hindi
Heart Attack in hindi

60 % के ब्लॉकेज के बाद भी अगर ब्लॉकेज बढ़ता ही जा रहा हो तो ज़्यादा खतरा होता है

ब्लॉकेज के ऊपर का पर्दा फटने का जिसकी वजह से अचानक ही ट्यूब बंद हो जाती है और खून को आगे जाने से रोक देता है जिसकी वजह से हार्ट अटैक आता है। ये पर्दा का फटेगा ये जानना थोड़ा मुश्किल होता है,जब की किसी किसी मामले में ये पर्दा 90 % में भी नहीं फटता है और किसी का 50 % में ही फैट जाता है।

हार्ट के पेशंट को तकलीफ नहीं होती है 60 से 70 % तक के ब्लॉकेज तक, जब तक खून को आगे जाने के लिए 20 % तक का जगह मिलती है तब तक कोई परेशानी नहीं होती है ऐसा इसलिए होता है क्यों की हमारे चलने फिरने तक के लिए कुछ की सप्लाई मिल जाये तो उतना हमारे हार्ट के लिए बहुत होता है।पर हार्ट के पेशंट में ये देखा जाता है की जो परदे की जो स्ट्रेंथ है उसके ऊपर निर्भर होता है की वो पर्दा कब फटने वाला है। किसी किसी को पता भी नहीं होता है की वो हार्ट का पेशंट है और 50 से 60 % में भी फैट जाता है। जैसे जैसे ये ब्लॉकेज बढ़ते जाती है हार्ट अटैक का खतरा भी बढ़ते जाता है।Heart Attack in hindi

क्या करे की हार्ट अटैक न आये –

सबसे पहले तो आपको ब्लॉकेज को भरना बंद करना होगा –

मैं आपको एक उदाहरण देता हूँ। जिस तरह से गुब्बारे में हम अगर हवा भरते रहते है तो वह अपने अंतिम चरम में फैट ही जाता है पर अगर हम हवा ही भरना बंद कर दे तो वह नहीं फूटेगा। इसलिए हमे भी अपने शरीर को ख़राब चोजो को नहीं डालना चाहिए या कम कर देना चाहिए। आज बहुत लोगो को हार्ट अटैक नहीं हो रहा है क्यों की वो जानते है की ख़राब खान पान से ही हार्ट अटैक होता है और वो एक हेल्थी खाना कहते है और अपने ब्लॉकेज को बढ़ने से रोक रहे है।

10 tips जो आपके ब्लॉकेज को कम करेगा। Heart Attack in hindi

1 ➤ डाइट –

1-खाने के बारे में आप सब जानते है की खाने में जो हम चर्बी खाते है उसमे दो प्रकार की चर्बी होती है – केलोस्ट्रोल और ट्रईग्रेसलैट जो हमारे खून में जाती है खाने से, और खून से हमारे हार्ट में जा कर जमा होने लगती है। तो इन दोनों को बंद करना होगा,केलोस्ट्रोल मिलता है ऐनिमल फ़ूड से मीट,दूध,मछली,अण्डा न खाये अगर दूध पीना है तो उसमे से आप मलाई निकल ले। और 200 gm से ज़्यादा दूध न ले।

2 तेल – अपने खाने में तेल का कम से कम इस्तेमाल करे या जिनमे तेल की ज़रूरत न हो उसने न डाले ऐसे बहुत से आपको रेस्पी भी मिल जाएगी जो बिना तेल के बनी होती है।
3 काजू,बादाम,फल्ली,अखरोट,नारियल,इसमें भी बहुत मात्रा में फैट होता है अगर आप हार्ट पेशंट है तो ये सारी चीज़े न ले।
4 ज़्यादा से ज़्यादा फल और हरी सब्जिया खाये।

2 ➤ वॉक करना –

हार्ट के पेशंट को हर दिन चलना बहुत ही ज़रूरी होता है कम से कम 30 मिनट तक आप ज़रूर चले। अगर आपको ज़्यादा परेशानी न हो या सास न फुले तो अपनी चलने की स्पीड को बढ़ा सकते है।

3 ➤ योग –

योग करने से हार्ट की बीमारी को कम करने में मदद करता है। योग में तीन चीज़ करना ज़रूरी है। 1 – मेडिटेशन 5 से 10 तक आप कर सकते है,
2 – अनुलोम विलोम का प्राणायाम 5 मिनट तक, 3 – सर से ले कर पैर तक की एक्सरसाइज की जाती है जैसे – उत्तानपादासन,त्रिकोणासन,शशांकासन,आंध्राभकसान,मेरुदंडासन,भुजंगआसन,सलबआसन ये करने से हार्ट की बीमारी में बहुत फायदा होता है जब भी आपको समय मिले तो ये योग ज़रूर करे।

4 ➤ तनाव कम करना – Heart Attack in hindi

अपने तनाव को कंट्रोल करना बहुत ज़रूरी है पहले आपको ये जानना पड़ेगा की आपको तनाव होता क्यों है, जब भी हम कोई चीज़ चाहते है और वो न हो तो तनाव होता है। आपको अपने उस काम के लिए पहले से ही प्लान बनाना पड़ेगा ऐसा नहीं है की कोई काम न हो तो ज़िन्दगी रुक जाती है

Heart Attack in hindi
Heart Attack in hindi

बल्कि अपने आपको मजबूत बनाना होगा और ऐसा काम करना होगा की अगर एक काम न हो तो दोसरा उपाए से काम करो या दूसरा काम न करे तो तीसरा उपाए से काम करो, अपने आपको ऑप्शन दो काम करने के लिए पर तनाव न ले। तनाव बहुत से होते है , कभी परिवार के तरफ से तनाव होता है , कभी पैसे को ले कर तनाव होता है, दोस्त,रिश्तेदार, काम से तनाव ऐसे बहुत से तनाव होते है। आपको कोशिश करना है की आपने आपको तनाव न दे।

5 ➤ हार्ट के बारे में पता होना।

आपके शरीर में केलोस्ट्रोल कितना होना चाहिए ट्रईग्रेसलैट कितना होना चाहिए ब्लड प्रेशर या शुगर कितना होना चाहिए इन सबकी जानकारी आपको होना चाहिए ताकि समय समय में आप इनको कण्ट्रोल कर सके। केलोस्ट्रोल – 130 मिलीग्राम से कम चाहिए प्रति दिन, ट्रईग्रेसलैट -100 मिलीग्राम से कम चाहिए खून में,hdl 25 % से ज़्यादा होना चाहिए, ब्लड प्रेशर – 120- 80 होना चाहिए ,शुगर 100 से 140. ये सारी चीज़े हमेशा आपको ख्याल रखना है।

6 ➤ दवाईयाँ –

अलोपैथीक की दवाईयां होती है उसमे काफी हद तक आपको फायदा मिलेगा इसमें कुछ साइडएफेक्ट भी है पर फायदा भी होता है- केलोस्ट्रोल,ट्रईग्रेसलैट,ब्लड प्रेशर,शुगर, इन सब की दवाईयां आप ले सकते है। अगर आपको रहत मिलती है तो। खून को पतला करने की दवाइयाँ ले, या तो एंजाइना है तो आपको एंटी एंजाइना दवाइयाँ भी लेना चाहिए। आपको अपने डॉक्टर से पूछ लेना है फिर ले सकते है सारी दवाइयाँ।

7 ➤ मेडिकल टेस्ट -Heart Attack in hindi

दो तरह के टेस्ट होते है –

CT CORONARY SCAN ये टेस्ट करने से आपको पता चल जायेगा की आपकी हार्ट के अंदर की ब्लॉकेज कितनी है। जिसकी टेस्ट की कीमत 7000 से 9000 तक हो सकती है।

रेगुलर टेस्ट – lipid profile हर 3 से 4 महीने में होना चाहिए ब्लड शुगर का टेस्ट होना चाहिए हार्ट के पेशंट का।

8 ➤ नशे से दूर रहे –

स्मोकिंग,तम्बाखू,खुटखा,जर्दा,अल्कोहल ये सब चीज़े बंद करना होगा अगर आप लेते है तो। अगर कोई स्मोकिंग करता है या तम्बाखू का किसी भी प्रकार से सेवन करता है तो उनका ब्लॉकेज बहुत जल्दी बढ़ता है। तो आप इसका थोड़ा ध्यान दे।

9 ➤ बायपास सर्जरी एंजियोप्लास्टी (BYPASS SURGERY ANGIOPLASTY) नहीं करवाना चाहिए।

क्युकी ये सर्जरी नेचुरल बॉडी को अननेचुरल बना देता है। जबकि आपको नेचुरल बायपास ECP ट्रीटमेंट 40 दिन एक एक घंटे इसमें इलाज होता है इस सर्जरी को करवाने से आपके बॉडी में नेचुरल बायपास खुल जाता है जितनी भी ब्लॉकेज हो आपके शरीर में सारे खुल जायेंगे।

10 ➤ एंजियोप्लास्टी और स्टेण्ड -Heart Attack in hindi 

नई मेडिकल रिसर्च ने माना है की एंजियोप्लास्टी बायपास सर्जरी के बिना भी पेशंट ठीक हो सकता है सिर्फ दवाई और अपने खान पान को बदल कर। पर अगर कोई चाहिए की ब्लॉकेज कम हो जाये तो उसके लिए एक थेरिपी होती है – डिटॉक्स थेरिपी ये आज कल बहुत लोग करवा रहे है।

ये जितनी बाते है जो आज आपने जानी है उसको अपने ध्यान में रखिये की आपका ब्लॉकेज कैसे कम होगा और कैसे अपना ख्याल रख सकते है।

AMIThttp://healthkikahani.com
Hello Friends, Mera Naam Amit Masih Hai Aur Ye WWW.healthkikahani.com Mera Blog Hai, Jis par Aapko Hindi Me Health Se Related Subhi Jankari Milegi.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments