Homeayurvedicसाइनस का आयुर्वेदिक इलाज 15 दिनों में जड़ से ख़त्म

साइनस का आयुर्वेदिक इलाज 15 दिनों में जड़ से ख़त्म

आयुर्वेदिक से साइनस को करे जड़ से ख़त्म

साइनस का आयुर्वेदिक इलाज –

साइनस की परेशानी बहुत सारे लोगो में होती है। साइनस एक नाक की बीमारी है।

ऐसे तो ज़्यादा लोग इसका कभी कोई इलाज भी नहीं कराते है। और कुछ लोग बार बार दवाइयाँ ही खाते रहते है। पर इसका बहुत ही आसान इलाज है वो भी आयुर्वेदिक के तरीको से। साइनस में नाक का बहना या बार बार छीके आना साँस लेने में कठिनाई होना या नाक में हमेशा एलर्जी होना ये समस्या आती है। ये एक आम समस्या है जिसका हम आसानी से घर पर ही इलाज कर सकते है। इसलिए आज के इस पोस्ट में जानेंगे की साइनस के कारण क्या क्या है। हमे क्या क्या भोजन करना चाहिए, हमे क्या क्या सावधानियाँ बरतनी चाहिए।

wikipedia


साइनस कहा पर होते है ? 

साइनस हमारे नाक के दोनों तरफ होता है

जो बहुत ही नाजुक होता है और हमारे माथे पर और आँखों के निचे भी होता है।

साइनस तो हर इंसान में होता है, लेकिन जब भी कभी इनमे सोजिश आ जाती है इंफ्लामेशन  हो जाता है। या इनमे कफ बनना शुरू हो जाता है। या बहुत ज़्यादा मियूकस बन कर जमने लगता है साइनस में तो हम इसे साइनो साइटिस कहते है और आम भाषा में साइनस भी कहा जाता है।


साइनस होने के कारण – साइनस का आयुर्वेदिक इलाज 

(1) अगर हम इसके कारणों की बात करे तो –

(1) – साइनस की बीमारी एलर्जी की वजह से हो सकता है।
(2) – मौसम में बदलाव की वजह से भी हो सकता है।
(3) – धूल,धुवा,बढ़ते हुवे प्रदुषण से,मिट्टी,डस्ट,पोलन ग्रीन से भी एलर्जी हो सकती है।

कई बार लोगो को बहुत परेशानी होती है थोड़ा सा भी डस्ट उनसे सहन नहीं हो पाता और साँस लेने में परेशानी होती है।

(2) कारण –
इंफेक्शन का हो जाना इनमे अगर आपको वाइरल इंफेक्शन हो जाए या किसी प्रकार का बैक्टीरियल इंफेक्शन हो जाए तो साइनस में सूजन हो जाता है या इंफ्लामेशन हो जाता है। जिसकी वजह से ये प्रॉब्लम आता है।

(3) -कारण –

कई लोगो को कई तरह के जानवर भी पालने का शौक होता है जैसे की –

डॉग,कैट,गॉट, या कई प्रकार के पक्छी इनसे भी साइनस की समस्या आती है। जिससे साइनोसाइटिस की समस्या देखने को मिलती है।


साइनस के लक्षण –

कुछ मरीजों में ज़्यादा समस्या देखने को मिलती है।

नाक का बंद हो जाना या कई लोगो की नाक ज़्यादा बहती है।

साँस लेने में भी कठिनाई होती है जिनको साँस लेने में परेशानी होती है वो अपने मुँह से साँस लेते है। कुछ लोगो को कफ की वजह से बोलने में भी परेशानी आती है। बहुत ज़्यादा प्रॉब्लम बढ़ जाती है तो आंखों की रोशनी भी कम होती जाती है। और कई लोगो के बाल भी सफ़ेद होना शुरू हो जाते है। या बाल झड़ने भी लग जाते है।


साइनस होने पर कुछ सावधानियाँ –

1 – अगर आपको साइनस हो जाता है तो –

जिस चीज़ से आपको एलर्जी या इंफेक्शन होता है

उससे आपको दूर ही रहना चाहिए। या थोड़ा बच के रहना चाहिए। जैसे – धूल,मिटटी,धुवा इनसे आपको दुरी बना कर रखना चाहिए। अगर आपको बहुत ज़रूरी है जाना तो आप मास्क लगा कर जाए और इन सब से बचा कर रखना चाहिए अपने नाक को ताकि आप किसी भी इंफेक्शन से बचे रहे।

2 – आपको ठंडी चीज़ो से भी बच के रहना चाहिए।

जैसे ठंडा पानी, आइस क्रीम, या कोल्ड्रिंक आज कल बच्चो में भी साइनस की समस्या बहुत बढ़ती जा रही है

वजह बच्चे आइस क्रीम, या कोल्ड्रिंक का सेवन ज़्यादा मात्रा में करते है। इसलिए अपने बच्चो को भी ज़्यादा ठंडी चीज़े न दे।

ये भी पढ़े – घुटने में दर्द का इलाज | knee pain treatment in hindi 2021

ये भी पढ़े – TOP 10 BEST HOSPITALS IN INDIA भारत के 10 सबसे सर्वश्रेष्ठ अस्पताल


कुछ आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खेसाइनस का आयुर्वेदिक इलाज 

1- अगर आपको साइनस की परेशानी आती है

तो आप थोड़ा सा अदरक को घीस ले बारीक़, फिर अदरक और बेसन का हलवा बना कर सेवन करे

इससे आपकी साइनस की समस्या दूर होती है। इसके अलावा जौ भी बहुत आपको फायदा देता है आप इसे गेहू के साथ मिक्स कर के पिसवा सकते है और रोटी बनाते के समय आटे में थोड़ा बेसन भी मिक्स कर सकते है। इससे भी आपको साइनस की समस्या से काफी राहत मिलती है।

2- गुड़ से साथ भुने हुवे चने खाने से भी आपको काफी फायदा मिलता है आपको बार बार छींक नहीं आने देता, ये सर्दी और जुखाम में भी बहुत रहत देता है।

3 – साइनस में सब्जियों का सुप पीना भी बहुत फायदेमंद होता है।

किसी भी सब्जी का सुप बनाते समय उसमे लहसुन और प्याज को मिक्स कर के बनाये।

इससे भी देखा गया है की साइनस की समस्या में काफी रहत मिलती है।

4 – भीगे हुवे 4 से 5 खजूर और अंजीर का रोजाना सेवन करते है

तो आपको साइनस की परेशानी से आराम मिलता है।

5- हल्दी के दूध का सेवन करने से साइनस के मरीजों में जल्दी आराम मिलता है।

इसके लिए आपको आधा चम्मच हल्दी आधा चम्मच दालचीनी

और 4 काली मिर्च इन सभी को पाउडर बना कर दूध में मिक्स कर के गर्म करे, फिर ठंडा कर के इसे पीये। आपका सर्दी  खांसी या जुखाम कुछ दिनों में ही गायब हो जाएगा और जो भी आपको इंफेक्शन है वो भी ठीक हो जायेगा।

साइनस का आयुर्वेदिक इलाज
साइनस का आयुर्वेदिक इलाज

साइनस होने पर आपको बार बार गर्म पानी पीते रहना चाहिए।

जिन लोगो को साँस लेने में परेशानी होती है।

या नाक बंद हो गई है, उनको भाप लेना बहुत ही ज़रूरी है। इसके लिए आपको ज़्यादा कुछ करना नहीं है – आपके घर में भी कुछ चीज़े होती है जिनका आप इस्तेमाल कर सकते है। जैसे – अजवाइन, पुदीना के कुछ पत्ते, करी पत्ता है इनको गर्म पानी में मिला कर भाप लेने से भी बहुत फायदा होता है। या अगर आप चाहे तो मेडिकल में यू कलिप्टस आयल आता है आप उसे भी ले कर इस्तेमाल कर सकते है इसकी 4 – 5 बुँदे पानी में डाल के भाप ले सकते है। इसके बाद आप नाक में 4 – 4 बून्द बादाम रोगन तेल डाले जिससे की इंफ्लामेशन कम होता है। नाक के साइनस को ये कम करने में मदद करता है। आयुर्वेद में इसे नस्य क्रम के नाम से भी जाना जाता है।

आयुर्वेदिक इलाज –

1 – आयुर्वेदिक में आप (250 ग्राम बादाम, 50 ग्राम त्रिकटु चूरन)

जिसमे सोंठ, पीपल, मरीच रहता है

10 ग्राम गिलोय सत्व और 300 ग्राम मिश्री इन सबका चूरन बना ले

और आधा आधा चम्मच गर्म दूध के साथ सुबह शाम ले, आपकी साइनस की समस्या दूर होती है। और आपको सर्दी जुकाम नाक में खुजली या इंफेक्शन से रहत मिलती है।

2 – 100 ग्राम चित्रक की रुट और 50 ग्राम हल्दी की गाँठ,

ये दोनों आपको आसानी से किसी भी मसाले की दुकान पर मिल जाएगी

इन दोनों को पीस कर पाउडर बना ले। और सुबह शाम आपको ये आधा चम्मच दूध के साथ लेना है, आपका जुकाम या साइनस में काफी आराम मिलेगा।

3 – दालचीनी और अदरक का अगर काढ़ा बना कर पीया जाये

तो आपकी बंद नाक भी खुल जाती है और जो साइनस की समस्या है उसमे भी काफी आराम मिलता है।

4 – जिनका कफ बहुत बढ़ गया है

साइनस की वजह से बलगम बहुत ज़्यादा आ रही है।

तो आप सुहागा मसाले की दुकान से ले आये फिर तवे पर थोड़ा गर्म कर कर ले। फिर इसे एक चुटकी शहद के साथ ले, आपके बढे हुवे कफ को ये कम करेगा और कफी राहत भी देगा। इसे आप सुबह शाम ले सकते है।

योग करे – साइनस का आयुर्वेदिक इलाज 

ये भी पढ़े – YOGASAN

ये भी पढ़े – पेशाब की नली में पथरी का इलाज kidney stone 2021

5 – योगा से भी आपको राहत मिल सकती है। आप कपाल भारती और आलोम विलोम भी कर सकते है।

6 – इसके अलावा सैयनोसाइटिस के लिए प्रेशर पॉइन्ट भी है

जिसका आपको इस्तेमाल करना है।

नाक के साइड में दोनों फंडमारम होते है जिसको अपने उंगलियों की मदद से मसाज करना चाहिए 10 से 15 बार या 5 ,मिनट तक रोजाना मसाज कर सकते है। और अपने दोनों भाव के बिच में हल्का हल्का प्रेशर देना होता है। जो आप 2 से 3 मिनट तक कर सकते है।

तो ये बहुत ही आसान से कुछ उपाए है

जो आप घर पर ही कर सकते है।

इससे धीरे-धीरे आपका साइनस की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाएगी। अगर आपकी समस्या कम न हो तो अपने डॉक्टर की सलाह ज़रूर ले।

AMIThttp://healthkikahani.com
Hello Friends, Mera Naam Amit Masih Hai Aur Ye WWW.healthkikahani.com Mera Blog Hai, Jis par Aapko Hindi Me Health Se Related Subhi Jankari Milegi.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments